47 Chinese App Ban किया गया, PUBG Ban की तैयारी

0
71
china-app-ban
china-app-ban
  • 47 Chinese क्लोन व वैरिएंट एप किये गये बैन
  • 275 Chinese App सरकार की निगरानी में, कभी भी हो सकता है PUBG Ban 
  • भविष्य में ऐसे एप्स पर निगरानी के लिए क्या ठोस कदम उठाने जा रही है सरकार, पढ़े इस आर्टिकल में….
Chinese App Ban
 

टिकटॉक सहित 59 Chinese App Ban के बाद आज सरकार ने दूसरी बार Chinese Apps पर डिजीटल सर्जिकल स्ट्राईक करते हुए 47 अन्य चायनीज क्लोन व वैरिएंट एप बैन किये। इसमें टिकटॉक लाइट, हेलो लाइट, शेयरइट लाइट जैसे वैरिएंट एप, जो  पिछली बार बैन नहीं किये जा सके थे, और पिछली बार बैन किये गये एप द्वारा रिलीज क्लोन एप्स को दोबारा से बैन कर दिया गया है। 

इसके साथ ही PUBG सहित 275 एप को निगरानी में रखने का आदेश हुआ है। से सभी छोटे-बड़े चायनीज एप किसी न किसी प्रकार चाइनीज कम्पनियों से जुड़े है। इन पर राष्ट्रीय सुरक्षा व निजता उल्लंघन से सम्बन्धित किसी भी तरह की संभावना होने पर बैन लगाया जा सकता है। इकोनॉमिक टाईम्स के अनुसार इस लिस्ट में गेमिंग एप पब्जी (चायनीज इण्टरनेट जायंट कम्पनी टेंसेंट) जिली (टेलीकॉम जायंट कम्पनी शायोमी) अली एक्सप्रेस (ईकामर्स जायंट अलीबाबा) टिकटॉक कम्पनी के अन्य एप रेसा व यूलाइक एप जैसे बड़े नाम शामिल है। 

Read Also – टिकटॉक पर जुकरबर्ग का सीक्रेट अकाउंट, वजह हैरान करने वाली है

अब तक इस लिस्ट पर क्या प्रगति हुई है? यह तो नहीं पता चला, लेकिन ET सूत्रों के अनुसार चायनीज एप और उनके आर्थिक स्रोतों की पहचान की जा रही है। इनमें से कुछ एप सुरक्षा कारणों से चिन्हित किया गया है, और कुछ डेटा शेयरिंग व निजता उल्लंघन की वजह से लिस्टेड की गयी है। भारत सरकार द्वारा इनमें से किसी को कभी भी Chinese App Ban किया जा सकता है।

क्यों जरूरी है Chinese App Ban

भारत सरकार द्वारा Chinese Apps के द्वारा संग्रहित डेटा के चीन तक पहुँचने की जाँच की जा रही है। Chinese Apps में उल्लिखित ‘चीनी डेटा शेयरिंग नार्म’ के अनुसार चायनीज कम्पनियों को चीन के साथ डेटा साझा करना होता है, चाहे वे किसी भी देश में कार्य करें। चायनीज इण्टरनेट कम्पनियों के भारत में लगभग 30 करोड़ उपभोक्ता है। अर्थात् लगभग दो तिहाई स्मार्टफोन प्रयोग करने वाले भारतीय अपने फोन में चायनीज एप इस्तेमाल करते है। 

देखा जाये तो एक तरफ भारत चायनीज कम्पनियों का सबसे बड़ा बाजार बन चुका है। इस तरह एक तफ चीन की सेना भारत की सीमाओं पर अतिक्रमण कर रही है, दूसरी तरफ यह चीनी कम्पनियों का भारत की अर्थव्यवस्था पर अतिक्रमण ही कहा जायेगा। भारत सरकार का यह Chinese App Ban इसी अतिक्रमण का जवाब माना जा सकता है।

भारत सरकार के सूत्रों के अनुसार इस तरह के App Ban की प्रक्रिया को औपचारिक व सरल बनाने हेतु सम्बन्धित मंत्रालय को ऐसे नियम-कानून बनाने को कहा गया है, जिससे इन Apps को लगातार निगरानी में रखा जा सके। बहुत जल्द ही इस तरह के मामलों के नियमन के लिए निश्चित प्रक्रिया व कानून लागू किये जायेंगे। 

Chinese App Ban
PUBG and other Chinese Apps are on Government’s Radar


TikTok के भारत में बैन से पहले लगभग 20 करोड़ यूजर्स थे। यह संख्या उसके कुल वैश्विक यूजर्स का 30 प्रतिशत था। PUBG के भी भारत में सबसे अधिक यूजर्स है। जून में 59 Chinese App Ban के बाद से ही PUBG Ban होने की अटकलें लगाई जा रहीं थी। एप इंटेलीजेंस फर्म सेंसर टॉवर के अनुसार भारत में पब्जी के कुल इंस्टालेशन की संख्या 17.5 करोड़ के आस-पास है। जो इसके कुल डाउनलोड्स का 24 प्रतिशत होता है। 

भारत ने सबसे पहले 59 Chinese Apps पर जून में बैन लगाया था। इसके बाद अमेरिका और आस्ट्रेलिया जैसे देशों ने भी चीन के इन एप्स पर शिंकजा कसने के संकेत दिये है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प भी कई बार इन एप्स को लेकर चीन को टारगेट कर चुके है। 

Oppo ने अपने बहुप्रतीक्षित Oppo A72 5G को Dimensity 720 SoC के साथ Launch किया

 

Creator Click लेकर आता है आपके लिए टेक्नोलॉजी से सम्बन्धित लेटेस्ट अपडेट्स और न्यूज। टेक से सम्बन्धित किसी भी जानकारी जानने के लिए नीचे कमेंट्स में पूछे। आपकी टिप्पणियाँ व सुझाव हमारे लिए अमूल्य है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here